ED Full Form in Hindi – ईडी क्या होता है

 
आपने ED के बारे में जरूर सुना होगा लेकिन क्या आप जानते है ED Full Form in Hindi क्या है?, ED क्या होता है? क्योंकि अक्सर अखबारों और न्यूज चैनलों में ED से जुड़ी खबरें जैसे ED ने नेता के घर में छापा मारा, ED को बड़े कारोबारी के घर से बहुत सारा काला धन बरामद हुआ, ED काले धन के मामले में नेता से पूछताछ कर रही है आदि खबरें आये दिन न्यूज में देखने और पड़ने को मिल जाते है। तब आपके मन में एक सवाल जरूर आता होगा आखिर ईडी क्या है यदि आप ED के विषय में जानकारी पाना चाहते है तो हमारे इस लेख को आखिरी तक जरूर पढ़े 
ED Full Form in Hindi
 
 

ED Full Form in Hindi 

ED का फुल फॉर्म Directorate of Enforcement होता है। इसे Enforcement Directorate भी कहते है। हिंदी में ईडी को प्रवर्तन निदेशालय कहते है। यह भारत की एक वित्तीय जाँच एजेंसी है जो Money Laundering और काले धन मामलो की जाँच करती है। 
 

ईडी क्या है ( What is ED in Hindi ) 

प्रवर्तन निदेशालय जिसे इंग्लिश में Directorate of Enforcement कहते है, जो भारत सरकार के वित्त मंत्रालय के राजस्व विभाग के अंतर्गत काम करने वाली एक विशेष वित्तीय जाँच एजेंसी है। ED भारत में हो रहे वित्तीय अपराध पर नजर रखती है और देश में हो रहे Money Laundering की जाँच करती है। 
 
प्रवर्तन निदेशालय (ED) एक आर्थिक खुफिया और कानून प्रवर्तन एजेंसी है जो भारत में आर्थिक कानून लागू करने का काम करती है। ED के आर्थिक कानून इस प्रकार है 
  • Foreign Exchange Management Act, 1999 (FEMA)
  • Prevention of Money Laundering Act, 2002 (PMLA)
यदि कोई नागरिक धन शोधन, बड़ी मात्रा में विदेशी मुद्रा को रखना,अवैध संपत्ति रखना आदि  विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम 1999 और धन शोधन निरोधक अधिनियम 2002 का उल्लंघन करता है तो उस नागरिक के खिलाफ जाँच करने और उसे गिरफ्तार करने का सम्पूर्ण अधिकार ED को दिया जाता है। 
 
 
जानकारी के लिए बता दूँ इसमें जितने भी अधिकारी काम करते  है वो भारतीय पुलिस सेवा, भारतीय प्रशासनिक सेवा, भारतीय राजस्व सेवा और भारतीय कॉर्पोरेट कानून सेवा से चुने गए ऊंचे रैंक के अधिकारी होते है। 
 

ईडी की स्थापना (History of ED)

Directorate of Enforcement ( प्रवर्तन निदेशालय ) की स्थापना 1 मई 1956 में हुयी थी, तब इसे प्रवर्तन इकाई नाम दिया था। इस प्रवर्तन इकाई का गठन विदेशी मुद्रा विनियमन अधिनियम 1947 (फेरा 1947) के तहत विनिमय विधियों के उलंघन को रोकने और आर्थिक नियंत्रण के लिए बनाया गया था। फिर 1957 में इस इकाई का नाम बदलकर प्रवर्तन निदेशालय कर दिया। 
 

ईडी का मुख्यालय (ED Headquarter) 

Directorate of Enforcement ( प्रवर्तन निदेशालय ) का मुख्यालय नई दिल्ली में है। लेकिन इन सब के अलावा ED के और भी रीजनल ऑफिस है जो चंडीगढ़, कोलकाता, मुंबई, चेन्नई में स्थित है। 
 
प्रवर्तन निदेशालय का क्षेत्रीय कार्यालय – श्रीनगर, जालंधर, जयपुर, लखनऊ, पटना, गुवाहाटी, अहमदाबाद, हैदराबाद, पणजी, बंगलोर, कोच्ची, कोलकाता, चेन्नई, मुंबई, चंडीगढ़, दिल्ली में स्थित है। 
 

Enforcement Directorate (ED) के उद्देश्य 

  • Enforcement Directorate का मुख्य उद्देश्य फेमा 1999 और धन शोधन निरोधक अधिनियम 2002 जैसे प्रमुख भारतीय कानून को लागू करना है। 
  • भारत में मनी लॉन्ड्रिंग को कम करना ED का प्रमुख उद्देश्य है। ED अपने ऑफिसियल वेबसाइट पर कुछ लक्ष्यो को सूचीबद्ध करती है जो मनी लॉन्ड्रिंग के खिलाफ लड़ाई से जुड़ी है। 
 

ED के अधिकार (Rights of ED)

  • प्रवर्तन निदेशालय (ED) देश में हो रहे गैर क़ानूनी कार्य जैसे अवैध धन की तस्करी की जाँच करना, बड़ी मात्रा में विदेशी मुद्रा को भारत लाने या अवैध धन को भारत से विदेशो में भेजने से जुड़े मामलो की जाँच करने का अधिकार होता है। 
  • भारत सरकार के हर तरह की वित्तीय जांच करने का अधिकार फेरा 1973 और fema 1999 अधिनियम के तहत प्रवर्तन निदेशालय को प्राप्त है। 
  • विदेश के किसी भी संपत्ति पर कार्यवाही करके उसका रोकथाम करने का अधिकार भी प्रवर्तन निदेशालय को प्राप्त है। 
  • मनी लॉड्रिंग करते पाए गए लोगो के खिलाफ कार्यवाही करना, उनकी गिरफ्तारी करने का अधिकार भी प्रवर्तन निदेशालय (ED) को प्राप्त है। 
  • ED के पास उन सभी नागरिक के खिलाफ जाँच करने,केस करने और गिरफ्तार करने का अधिकार प्राप्त है जो विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम 1999 और धन शोधन निरोधक अधिनियम 2002 का उल्लंघन करने के आरोपी होते है। 
 

भारत में भ्रष्टाचार कम करने में ED (प्रवर्तन निदेशालय) की अहम भूमिका-

आपको बता दूँ भारत में भ्रष्टाचार को कम करने में प्रवर्तन निदेशालय की अहम भूमिका है। यह एजेंसी अपने कर्तव्यों का सही तरिके से निर्वहन करती है जिसमे काले धन और धन शोधन से जुड़े गंभीर मामलो में पाए गए दोषियों के खिलाफ जाँच करके उन्हें कानून के अनुसार सजा भी दिलाती है।
 
इसे भी पढ़े –
 
Conclusion
 
तो दोस्त अब आप अच्छे से के बारे में जान गए होंगे। इस लेख में हमने आपको ED क्या होता है, ईडी के कार्य क्या है, ईडी की स्थापना कब हुई के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान किया । मैं आशा करता यह लेख आपके लिए उपयोगी रहा होगा। अगर आपको इस लेख की जानकारी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करे और इस लेख से जुड़े सुझाव या सवाल हो तो कमेंट में जरूर बताये 

Leave a Comment