AEPS Full Form in Hindi – AEPS क्या होता है

 
AEPS Full Form in Hindi: आज इस लेख में हम आपको AEPS से जुडी जानकारी देने वाले है। आपने अक्सर देखा होगा लोग आधार कार्ड का प्रयोग करके पैसे निकालते है साथ ही किसी दूसरे को पैसे भेजने हो तो वो भी आधार कार्ड के जरिये भेज देते है लेकिन आपने कभी सोचा ये सब कैसे होता है, आखिर आधार कार्ड के जरिये कोई व्यक्ति पैसे निकल और भेज कैसे सकता है ? आपको बता दूँ यह सब AEPS के माध्यम से संभव हो पाता है।
 
 
AEPS Full Form in Hindi



इस लेख में हम इससे जुड़े सवाल जैसे AEPS Full Form Banking in Hindi क्या है, AEPS क्या होता है (What is AePS), इसका इस्तेमाल किस लिए किया जाता है, इसका उपयोग करते समय किन बातो का ध्यान रखना चाहिए आदि के जवाब देने वाले है। यदि आप इसके बारे में ज्यादा नहीं जानते तो हमारे इस आर्टिकल को आखिरी तक जरूर पढ़े। 
 

AEPS Full Form in Hindi

AEPS Full Form यानि इसका पूरा नाम “Aadhar Enable Payment System” होता है। हिंदी में इसका मतलब “आधार सक्षम भुगतान प्रणाली” होता है। 

AEPS क्या होता है (What is AePS)

Aadhar Enable Payment System (AePS) भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) के द्वारा संचालित किया जाने वाले सिस्टम है। जिसके तहत बैंक खाताधारक को  अपने आधार कार्ड, फिंगरप्रिंट,आँखों का स्कैन करवाके वेरिफिकेशन प्रक्रिया को पूरा करने के बाद माइक्रो एटीएम की मदद से वित्तीय ट्रांजेक्शन करने का अनुमति प्रदान किया जाता है। इस सिस्टम से माध्यम से लोग बड़े आसान तरिके से केवल आधार कार्ड, फिंगरप्रिंट की सहायता से पैसे निकाल और भेज सकते है। 
 
यह पैसे निकालने और भेजने जैसे वित्तीय ट्रांजेक्शन करने के लिए बहुत सुरक्षित प्रक्रिया है, इस प्रक्रिया में व्यक्ति को अपने बैंक खाता से जुड़े किसी भी प्रकार की जानकारी जैसे खाता नंबर, पिन कोड आदि बताने की जरूरत नहीं पड़ती, सिर्फ आधार कार्ड और फिंगरप्रिंट की जरूरत पड़ती है। 

AEPS के लाभ

AEPS ग्रामीण क्षेत्रों में जहा पर बैंको की कमी है उन क्षेत्रों में लोगो को अपने घर के पास ही बैंकिंग की सुविधा प्रदान करने का काम करता है। इसके कैसे सारे लाभ है जो इस प्रकार है। 
  • AePS के माध्यम से आप घर बैठे ही पैसे का ट्रांसफर कर सकते है। 
  • आधार इनेबल पेमेंट सिस्टम में पैसे निकलने और भेजने के लिए बैंक पासबुक और पिन की जरूरत नहीं पड़ती।
  • AEPS से पैसे निकलने और भेजने में आपको कोई भी चार्ज नहीं देना पड़ता। 
  • इसमे बहुत ही सुरक्षित और तेजी से पैसे का लेनदेन कर सकते है। 
  • इसमें आपको किसी भी प्रकार के फॉर्म भरने की जरूरत नहीं पड़ती। 
  • खाताधारक Banking Correspondent की मदद से वित्तीय ट्रांजेक्शन को सुनश्चित कर सकता है। 
  • AEPS का लाभ लेने के लिए खाताधारक को आधार कार्ड और फिंगरप्रिंट की जरूरत पड़ती है। 

AePS में मिलने वाली सुविधाएं 

आधार सक्षम भुगतान प्रणाली में खाताधारक को नगत निकासी, नगत पैसे जमा करना, खाते में बचे पैसो की जानकारी प्राप्त करना, आधार से आधार फंड ट्रांसफर करना, मिनी स्टेटमेंट आदि प्रकार की सुविधाएं दी जाती है। 
 
इस प्रणाली को शुरू करने का सबसे बड़ा उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में जहा पर बैंको की कमी है या बैंक गांव से बहुत दूर है, वहां पर लोगो को आसान तरिके से सिर्फ अपने आधार कार्ड नंबर की मदद से बैंक खाते से पैसे निकालने और जमा करने जैसे बैंकिंग सुविधाएं प्रदान करना है।  
 
इस प्रणाली के आ जाने से ग्रामीण लोगो को पैसो के लेन-देन करने में सहूलियत होती है उन्हें पैसे निकालने और जमा करने के लिए दूर चलकर बैंक तक जाने की आवश्यकता नहीं पड़ती। इस प्रणाली के आ जाने के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में पैसे ट्रांसफर करने की प्रक्रिया में काफी ज्यादा सुधार हुआ है। 

AePS के जरिये लेनदेन करने के लिए आवश्यक चीजे 

यदि आप आधार सक्षम भुगतान प्रणाली के माध्यम से पैसो का लेनदेन करना चाहते है तो उसके लिए आपके पास निम्न चीजे होना अनिवार्य है। वह चीजे इस प्रकार है –
  • आधार कार्ड का नंबर 
  • खाताधारक का फिंगरप्रिंट
  • बैंक शाखा का नाम और INN नंबर 
  • AePS operator
  • Micro ATM या POS मशीन बायोमैट्रिक उपकरण के साथ। 

AePS कैसे काम करता है ?

दोस्तों आपने AePS क्या होता है इसके फायदे क्या है के बारे में अच्छे से जान लिए लेकिन अब बात आती है ये सब कैसे होता है ? सबसे पहले आपको बता दूँ इस प्रणाली के माध्यम से केवल वही व्यक्ति पैसे निकाल और जमा कर सकता है जिसका आधार कार्ड बैंक खाते से लिंक हो। यदि आपका आधार कार्ड बैंक खाते के लिंक नहीं है तो आप किसी भी प्रकार का ट्रांजेक्शन नहीं कर सकते। 
 
AePS के जरिये ट्रांजेक्शन करने के लिए सबसे पहले आपके आधार कार्ड का नंबर टाइप किया जाता है उसके बाद आपके उंगलियों को एक स्कैनिंग मशीन पर रखकर स्कैन किया जाता है, फिंगरप्रिंट स्कैन होने के बाद बैंक उसे आधार कार्ड धारक के फिंगरप्रिंग से मिला कर देखता है। जब एक बार आपका आधार कार्ड और फिंगप्रिंट वेरीफाई हो जाता है तब आप बैंक लेनदेन कर सकते है। 
 
अन्य जानकारी 
 
इस लेख में हमने आपको AEPS क्या है AEPS Full Form in Banking क्या होता है आदि के बारे में बताया है। मुझे उम्मीद है इस लेख को पढ़कर आपको AePS के बारे में पता चल गया होगा। अगर आपको हमारे पोस्ट की जानकारी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करे।

Leave a Comment