सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Resume Kaise Banaye - रिज्यूमे बनाने की पूरी जानकारी


प्रतिस्पर्धा के इस दौर में एक अच्छी नौकरी हासिल करना बहुत मुश्किल काम हो गया है। ऐसे में यदि आप कही पर नौकरी के लिए आवेदन करना चाहते है तो सबसे पहले अपना रिज्यूमे बनाना पड़ता है। देखा जाए तो रिज्यूमे ही नौकरी पाने की पहली सीढ़ी है।  अच्छा रिज्यूमे नौकरी दिलाने के लिए काफी ज्यादा मददगार साबित होता है। आपके द्वारा दिए रिज्यूमे को पढ़कर इंटरव्यू लेने वाला व्यक्ति आपके बारे में कई प्रकार की जानकारी जैसे आपमें कहा तक पढ़ाई की है, आपके पास कौन कौन से कौशल है, आपका कार्य क्षेत्र में कितना अनुभव है आदि तरह की जानकारी प्राप्त कर लेता है। आपके रिज्यूमे को पढ़ने के बाद ही इंटरव्यू लेने वाला व्यक्ति तय करता है कि आप इंटरव्यू देने के योग्य है की नहीं। आप कही पर भी नौकरी के लिए आवेदन करे सभी जगह रिज्यूमे की जरूरत होती है। इसलिए इस लेख में हम आपको Resume Kya Hota Hai, Resume Kaise Banaye के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे। 

Resume Kaise Banaye


रिज्यूमे क्या होता है (Resume in Hindi)

Resume एक प्रकार का दस्तावेज होता है, जो सिर्फ 1 या 2 पेज का होता है  जिसमे व्यक्ति अपने करियर बैकग्राउंड, कौशल, कार्य अनुभव, उपलब्धियों को दर्शाता है। रिज्यूमे में व्यक्ति अपनी Professional और Personal जानकारी शार्ट में लिखता है। आप जॉब प्रोफाइल के हिसाब से अपने रिज्यूमे में कुछ बदलाव भी कर सकते है। 

किसी भी कंपनी में नौकरी पाने के लिए रिज्यूमे बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। क्युकी एक अच्छा रिज्यूमे कंपनी के हायरिंग मैनेजर पर बहुत अच्छा प्रभाव डालता है। जब आप अपना रिज्यूमे कंपनी के HR के पास जमा करते है तो HR उसे अच्छे से देखता है। और आपके रिज्यूमे को देखकर HR इस बात का निर्णय लेता है की आपको इंटरव्यू के लिए बुलाना है  की नहीं। 

Resume के माध्यम से ही हायरिंग मैनेजर आपके कौशल, कार्य क्षमता, अनुभव को आँकता है। इसलिए हमेशा Resume को अच्छे से बनाये और जरुरी जानकारी को अच्छे तरिके से प्रदर्शित करे ताकि आपके इंटरव्यू के लिए  Select होने के Chance बढ़ सके। 

Resume का उद्देश्य (Objective)

आपका और कंपनी का समय बचाने के लिए रिज्यूमे एक बहुत अच्छी प्रणाली है। जब कोई कंपनी जॉब वैकंसी निकालती है तो अपने नोटिफिकेशन में जॉब प्रोफाइल, वेतन और योग्यता के बारे में विस्तार से जानकारी देती है। जिसके कारण आवेदन करने वालो से सबसे पहले रिज्यूमे की मांग की जाती है। Resume के आधार पर की हायरिंग मैनेजर इस बात का निर्णय लेता है कि कैंडिडेट जॉब के लिए योग्य है कि नहीं। यदि हायरिंग मैनेजर को लगता है कि कैंडिडेट जॉब के लिए योग्य नहीं है तो वह उस कैंडिडेट के रिज्यूमे को सेलेक्ट नहीं करता। 

वही अगर आप बिना  रिज्यूमे के कंपनी में सीधे इंटरव्यू के लिए चले गए और बाद में आपको पता चले कि जॉब प्रोफाइल आपके लिए नहीं है या आप जॉब के लिए योग्य नहीं है तो कंपनी और आपका दोनों का समय बर्बाद होगा साथ ही पैसे की भी बर्बादी होगी। इसी सब चीजों को देखते हुए हर कंपनी में इंटरव्यू से पहले रिज्यूमे को मांग की जाती है। 

Resume में क्या क्या लिखना चाहिए 

Contact Details (संपर्क विवरण) : अपना रिज्यूमे में संपर्क जानकारी लिखते समय उसमे अपना पूरा नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल एड्रेस अवश्य लिखे। इसके अलावा यदि आपका  linkedin में प्रोफाइल है तो आप उसे भी शामिल जरूर करे। 

Introduction (परिचय) : इसमें आपको अपने  प्रमुख योग्यताओ तथा विशेषताओ के बारे में संक्षिप्त से विवरण करना होता है। इसमें आप वर्तमान समय में किस प्रोफेशन में है, आपको ताकत, उपलब्धियाँ क्या है आदि के बारे में संक्षित्प में बता सकते है। 

Education (शिक्षा) : रिज्यूमे के इस भाग में आपको अपने शिक्षा के बारे में विवरण करना होता है। इसमें आपने कहाँ तक शिक्षा हासिल की है और किस कॉलेज से शिक्षा प्राप्त की है उसके बारे में बताना होता है। 

Work Experience (कार्य अनुभव) : यहाँ आप अपने कार्य अनुभव के बारे में सूचीबद्ध तरिके से जानकारी दे। आप अपना जॉब प्रोफाइल, आपने किस कंपनी में काम किया है और कितने सालो तक काम किया है उसके बारे सूचीबद्ध तरिके से जानकारी दे। यह भाग रिज्यूमे के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है। लेकिन यदि आपने पहले कभी नौकरी नहीं की है यानि आप Fresher है तो कार्य अनुभव के बारे में लिखने की कोई जरूरत नहीं है। 

Skill (कौशल) : अपने रिज्यूमे में उन कौशल को शामिल करे जो जॉब प्रोफाइल से मेल खाते हो। आप कठिन कौशल और सॉफ्ट कौशल को मिलाकर प्रस्तुत कर सकते है। 

Achievements (उपलब्धि) : इस भाग में आपको अपने उपलब्धियों को लिखना होता है जैसे आपको किसी कंपनी में काम करते वक्त कोई अवार्ड से नवाजा गया है या कुछ सर्टिफिकेट हासिल किया हो। 

रिज्यूमे के प्रकार (Types of Resume)


ज्यादातर लोगो को यही लगता है कि रिज्यूमे लिखने का एक ही तरीका होता है लेकिन आपको बता दूँ रिज्यूमे कई  प्रकार के होते है और प्रत्येक रिज्यूमे का प्रयोग अलग अलग तरिके से किया जाता है। 

रिज्यूमे मुख्य रूप से चार प्रकार के होते है -
  • कालानुक्रमिक रिज्यूमे 
  • कार्यात्मक रिज्यूमे 
  • लक्षित रिज्यूमे 
  • संयोजन रिज्यूमे 

कालानुक्रमिक रिज्यूमे (Chronological Resume)

इस प्रकार के रिज्यूमे में सबसे पहले प्रोफेशनल एक्सपीरियंस को दर्शाया जाता है। इस रिज्यूमे का प्रयोग वे लोग करते है जो पहले से किसी कंपनी में कार्य कर चुके होते है और वे एक्सपीरियंस यानि अनुभवी होते है। इस रिज्यूमे में वह पहले जिस कंपनी में कार्य करते थे उसके बारे में लिखते है साथ ही पिछली कंपनी में जो उपलब्धियाँ हासिल की होती है उसके बारे में शार्ट शब्दो में लिखते है। अनुभवी व्यक्ति है कालानुक्रमिक रिज्यूमे का इस्तेमाल करते है। 

कार्यात्मक रिज्यूमे (Functional Resume)

इस प्रकार के रिज्यूमे में कौशल और क्षमताओं पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। यानि स्किल के बारे में सबसे पहले लिखा जाता है। इस प्रकार के रिज्यूमे को लिखने वाला व्यक्ति चाहता है की हायरिंग मैनेजर सबसे पहले उनके स्किल के बारे में जाने। और यदि उनके स्किल के अनुसार कंपनी में कोई जॉब रहता है तो हायरिंग मैनेजर सबसे पहले उनके रिज्यूमे को सेलेक्ट करे। दोस्तों यह रिज्यूमे फ्रेशर के लिए काफी महत्वपूर्ण होता है। 

लक्षित रिज्यूमे (Targeted Resume)

जब हमे किसी एक क्षेत्र या किसी टारगेट कंपनी में जॉब करना होता है तब उस समय हम टार्गेटेड रिज्यूमे बनाते है। इस रिज्यूमे में हम कंपनी के जरूरत के हिसाब से अपने कौशल, योग्यता और अनुभव को दर्शाते है। यादे रहे इस प्रकार के रिज्यूमे में आप जो भी स्किल के बारे में बताते  है वो सभी सच होना चाहिए आप किसी भी ऐसे स्किल को न लिखे जो आपने नहीं है। 

संयोजन रिज्यूमे (Combination Resume)

इस रिज्यूमे में एक्सपीरियंस और स्किल दोनों को दर्शाया जाता है। जो लोग किसी एक स्किल में बहुत ज्यादा माहिर होते है और उनको उसमे कई सालो का अनुभव होता है वे लोग संयोजन रिज्यूमे का प्रयोग करते है। देखा जाए तो संयोजन रिज्यूमे, कार्यात्मक और कालानुक्रमिक रिज्यूमे का मेल होता है। 

रिज्यूमे बनाते समय ध्यानदेने योग्य बाते 

Resume बनाने में हमे कई सारे चीजों पर विशेष ध्यान देना होता है। क्युकी रिज्यूमे ही नौकरी पाने की पहली सीढ़ी होती है, रिज्यूमे ही हमे इंटरव्यू तक लेके जाता है। रिज्यूमे बनाने में की गयी छोटी सी गलती भी हमारे रिज्यूमे को रिजेक्ट करवा सकता है। इसलिए हमे रिज्यूमे बनाने में विशेष बातो का पूरा ध्यान रखना चाहिए जो इस प्रकार है -
  • रिज्यूमे में अपने स्किल, योग्यता, कार्य अनुभव, उपलब्धियां के बारे में संक्षिप्त में जानकारी दे। आप रिज्यूमे में केवल उन्ही जानकारी को लिखे जो जॉब के लिए जरुरी है। 
  • रिज्यूमे हमेशा एक पेज का होना चाहिए। 
  • रिज्यूमे बनाते समय किसी भी प्रकार की स्पेलिंग मिस्टेक न करे। 
  • रिज्यूमे में हमेशा सही जानकारी दे । हायरिंग मैनेजर को इम्प्रेस करने के चक्कर में गलत जानकारी न दे, यानि आपको जो चीजे आती है उसी को रिज्यूमे में दर्शाये। 
  • रिज्यूमे में जानकारी को लिखते समय Bullets Form का इस्तेमाल जरूर करे क्युकी इससे हायरिंग मैनेजर को पढ़ने में आसानी होती है, साथ ही रिज्यूमे अच्छा भी दिखता है। 
  • रिज्यूमे में font size और फॉन्ट टाइप ऐसा रखो की पढ़ने वाले को आसानी से समझ में आ जाए।
  • रिज्यूमे में व्यक्तिगत जानकारी जैसे आयु, धर्म, जाती, मैरिड स्टेटस, जन्म तिथि, पिता का नाम आदि चीजे न लिखे। 
  • रिज्यूमे में कभी भी अपनी कमियों के बारे में न लिखे। 
  • रिज्यूमे लिखते समय किसी भी वर्ड को शार्ट फॉर्म के रूप में न लिखे क्युकी जरुरी नहीं की सामने वाले को उसका फुल फॉर्म पता हो।

रिज्यूमे कैसे बनाये (Resume Kaise Banaye)

रिज्यूमे बनाना आज के समय में ज्यादा मुश्किल काम नहीं है आप अपने स्मार्ट फ़ोन में आसानी से Resume बना सकते है। आपको प्ले सॉर्ट में कई सारे रिज्यूमे बनाने वाले एप्लीकेशन मिल  जायेंगे जहा से आप आसानी से रिज्यूमे बना सकते है। 

इसके अलावा आप MS Word में भी रिज्यूमे बना सकते है, MS Word में पहले से बना बनाया रिज्यूमे होता है बस आपको उसे एडिट करके की आवश्यकता होती है।  

आपने रिज्यूमे क्या होता है, इसका उद्देश्य, रिज्यूमे के प्रकार, रिज्यूमे बनाने में किन चीजों का ध्यान देना चाहिए के बारे में अच्छे से जान लिया, अब हम थोड़ा  CV और बायोडाटा के बारे में जान लेते है 

सीवी क्या है 

बहुत से लोग है जो रिज्यूमे और सीवी को एक जैसा मानते है, और इसी कारण जहाँ रिज्यूमे देना होता है वहां सीवी दे देते है, और यह उनकी सबसे बड़ी गलती हो जाती है जिस कारण उन्हें कभी इंटरव्यू के लिए सेलेक्ट नहीं किया जाता। 

आपने रिज्यूमे के बारे में तो अच्छे तरिके से जान लिया बात करे सीवी की तो आपको बता दूँ सीवी का फुल फॉर्म करिकुलम विटे होता है। जो लैटिन भाषा का एक शब्द है, इस शब्द का मतलब जीवन का सार होता है। इसके मतलब से ही समझ आता है कि सीवी में हमे अपने बारे में विस्तार से बताना होता है। इसलिए सीवी 2 से 4 पेज का होता है। जब आप इंटरव्यू के लिए सेलेक्ट होते है तब आपको साथ में  सीवी लेकर बुलाया जाता है। रिज्यूमे में आपने जो चीजे शार्ट में लिखी होती है उन चीजों को स्पष्ट रूप से सीवी में लिखना होता है। इसी सीवी के हिसाब से इंटरव्यू लेने वाला आपसे सवाल करता है। 

बायो डाटा क्या है। 

बायोडाटा का मतलब बायोग्राफिकल डाटा होता है जो  1 से 3 पेज का होता है। बायो डाटा हमे अपने व्यक्तिगत जानकारी जैसे आयु, जन्म तिथि, जाति, नागरिकता, स्थान, पता आदि चीजों के बारे में बताना होता है। बायोडाटा का इस्तेमाल शादी से संबंधित वेबसाइट में किया जाता है,  इसके अलावा जहा आपकी व्यक्तिगत जानकारी की आवश्यकता होती है वहां किया जाता है। 


Conclusion

तो दोस्तों अब आप रिज्यूमे के बारे में अच्छे से समझ गए होंगे। इस लेख में हमने आपको रिज्यूमे क्या होता है , रिज्यूमे का उद्देश्य क्या है, रिज्यूमे के प्रकार, रिज्यूमे में क्या लिखना चाहिए, रिज्यूमे बनाने में किन बातो का ध्यान रखना चाहिए के बारे में विस्तार से बताया। इसके अलावा हमे सीवी क्या होता है तथा बायोडाटा क्या होता है के बारे में भी जाना। 

मैं आशा करता हूँ हमारे द्वारा इस लेख मे रिज्यूमे के बारे में जो जानकारी दी गयी है वो आपके लिए उपयोगी साबित होगी। यदि आपको हमारे इस पोस्ट की जानकारी अच्छी लगे तो इस शेयर जरूर करे। साथ ही इस लेख से जुड़े किसी तरह का सवाल या सुझाव हो तो हमे कमेंट में लिखकर जरूर बताए। 

टिप्पणियाँ